गाजर के जूस के फायदे और नुकसान – Carrot Juice

9 Min Read
गाजर के जूस के फायदे और नुकसान - Carrot Juice

गाजर के जूस के फायदे और नुकसान ( gajar ke juice ke fayde aur nuksan ) : गाजर की ही तरह गाजर के जूस के फायदे और नुकसान भी ढेरों फायदे होते हैं। गाजर (Carrot) का सेवन करने से स्वास्थ्य को कई प्रकार से लाभ मिलता है। गाजर की तासीर ठंडी मानी जाती है फिर भी सर्दियों में गाजर का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। दुनियाभर में गाजर को सबसे लोकप्रिय माना जाता है।

गाजर के जूस के फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of carrot juice in hindi)

गाजर की तुलना में दिन में 1-2 बार गाजर के जूस के सेवन से अधिक फायदे होते हैं। गाजर के जूस में ढेरों पोषक तत्व पाए जाते हैं जिसके उपयोग से शरीर को स्वास्थ्य बनाये रखने में आसानी होती है।

अन्य भाषाओं में गाजर के नाम-

गाजर को संस्कृत में गर्जर (Garjar), तमिल में गजरकीलंगू (Gajjarakilangu),  बंगाली में गाजरा (Gajara), मलयालम में करफ्फू (Karaffu) एवं तेलुगु में गज्जारागेड्डा (Gajjaragedda) के नाम से जाना जाता है।

गाजर के जूस में पाए जाने वाले पोषक तत्व-

गाजर के जूस में प्रोटीन, एनर्जी, कार्बोहायड्रेट, फाइबर, वसा, शुगर, आयरन, कैल्शियम, पोटाशियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, सोडियम, जिंक, विटामिन C, राइबोफ्लेविन, थियामिन, नियासिन, फोलेट, विटामिन B6, विटामिन B12, विटामिन A, विटामिन E, विटामिन D, विटामिन K, सैचुरेटेड फैटी एसिड, कोलेस्ट्रॉल, मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, पोलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड आदि जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं।

जानें गाजर खाने के फायदे और नुकसान

गाजर के जूस के उपयोग का तरीका-

गाजर के जूस को सुबह व्यायाम करने के बाद, गाजर के जूस को पालक के रस के साथ मिलाकर, गाजर के जूस को सूप में मिलाकर एवं पुलाव बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है। Benefits and side effects of carrot juice in hindi.

गाजर के जूस के फायदे (Benefits of carrot juice in hindi)

  • गाजर के जूस का सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है जिससे कई प्रकार की बीमारियों के खतरों से बचाव करने में बहुत मदद मिलती है। गाजर के जूस में कैरोटेनॉइड्स (Carotenoids) जैसे पोषक तत्वों की मात्रा पायी जाती है जिससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिलती है। इसके अलावा गाजर के जूस का सेवन करने से विभिन्न प्रकार के संक्रमण के खतरों से भी बचा जा सकता है।
  • गाजर के जूस का नियमित रूप से सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारी के खतरों से बचा जा सकता है। गाजर के जूस में प्रो विटामिन A की मात्रा पायी जाती है जिससे ब्रैस्ट कैंसर एवं फेफड़ों के कैंसर के खतरों को कम करने में आसानी होती है। गाजर का जूस पीने से शरीर में कैंसर की कोशिकाएं विकसित नहीं हो पाती जिससे कैंसर से बचाव में बहुत मदद मिलती है।
  • गाजर के जूस का सेवन करने से आँखों का स्वास्थ्य बेहतर रहता है। बढ़ती उम्र के कारण अक्सर आंखों की रौशनी में कमी हो जाती है। गाजर का जूस पीने से शरीर में विटामिन A की कमी पूरी होती है जिससे आंखों की क्षमता में वृद्धि होती है। इसके अलावा गाजर के जूस में विटामिन C, बीटा कैरोटीन एवं विटामिन E की भी भरपूर मात्रा पायी जाती है जिससे आंखों की रौशनी में वृद्धि होती है।
  • गाजर के जूस का नियमित रूप से सेवन करने से हृदय का स्वास्थ्य बेहतर रहता है। गाजर के जूस में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण एवं पोटैशियम की मात्रा पायी जाती है जिससे हृदय को स्वस्थ बनाये रखने में बहुत मदद मिलती है। रोजाना नियमित रूप से गाजर के जूस का उपयोग करने से हार्ट अटैक एवं स्ट्रोक जैसे खतरों कम किया जा सकता है।
  • गाजर के जूस का रोजाना उपयोग करने से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। गाजर के जूस में फाइबर की भरपूर मात्रा पायी जाती है जिससे पाचन तंत्र बेहतर रहता है। फाइबर पेट में खाने को पचाने में मदद करने के साथ-साथ मल को मुलायम बनाता है जिससे कब्ज, अपच एवं पेट में ऐंठन जैसी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

जानें रोजाना सिर दर्द के कारण और उपाय

  • गाजर के जूस का सेवन करने से मस्तिष्क का स्वास्थ्य बेहतर रहता है जिससे कई प्रकार की दिमागी बीमारियों से बचाव करने में मदद मिलती है। गाजर के जूस में नियासिन की मात्रा पायी जाती है जिससे मस्तिष्क की कार्य क्षमता में वृद्धि होती है। मानसिक रोगियों के लिए रोजाना गाजर के जूस का सेवन करना बेहद फायदेमंद माना जाता है।
  • गाजर के जूस का उपयोग करने से मोटापे की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। दरअसल गाजर के जूस पीने में मैंगनीज की मात्रा पायी जाती है जिससे शरीर में मेटाबॉलिज्म का स्तर बढ़ता है और जिससे शरीर में मौजूद अतिरिक्त चर्बी को घटाने में आसानी होती है।
  • गाजर के जूस का नियमित रूप से सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर संतुलित रहता है। गाजर के जूस में विटामिन B की मात्रा पायी जाती है जिससे शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को घटाकर अच्छे कोलेस्ट्रॉल यानी एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। गाजर के जूस का नियमित रूप से सेवन करना शरीर के लिए अत्यंत गुणकारी होता है।

जानें अजवाइन के तेल के फायदे और नुकसान

गाजर के जूस के नुकसान (Losses of carrot juice in hindi)

  • उच्च रक्तचाप की समस्या वाले लोगों को गाजर के जूस का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि गाजर के जूस में सोडियम की मात्रा पायी जाती है जिससे शरीर में रक्तचाप का स्तर बढ़ सकता है।
  • गाजर के जूस का अत्यधिक सेवन करने से अल्सर की समस्या से जूझ रहे लोगों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। गाजर के जूस में पोटैशियम की मात्रा पायी जाती है जिससे अल्सर की समस्या में वृद्धि हो सकती है। अल्सर जैसी समस्या से पीड़ित व्यक्तियों को गाजर के जूस का सीमित मात्रा में ही इस्तेमाल करना चाहिए।
  • गाजर के जूस का ताजा सेवन करना चाहिए अन्यथा प्रिसर्व करके रखे गए गाजर के जूस का सेवन करने से फूड पॉइजनिंग की समस्या भी हो सकती है।
  • मधुमेह की समस्या से जूझ रहे लोगों को गाजर के जूस का सेवन करने से बचना चाहिए। गाजर के जूस का अधिक सेवन करने से रक्त में शुगर की मात्रा में वृद्धि हो सकती है जिससे मधुमेह के रोगियों की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।
  • गाजर के जूस का अधिक सेवन करने से दस्त जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। गाजर के जूस में उच्च फाइबर की मात्रा पायी जाती जिसकी अधिकता से दस्त जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।
  • स्तनपान करा रही महिलाओं को गाजर के जूस का सेवन करने से बचना चाहिए। गाजर के जूस का सेवन करने से स्तन-दूध का स्वाद बदल सकता है जिससे नवजात शिशु को नुकसान पहुंच सकता है।
  • गाजर से एलर्जी की समस्या वाले लोगों को गाजर के जूस का सेवन करने से डॉक्टर का परामर्श अवश्य ले लेना चाहिए।

जानें कटहल के बीज के फायदे और नुकसान

Trending on Internet

Share this Article