सरसों तेल के फायदे और नुकसान

4 Min Read
सरसों तेल के फायदे और नुकसान

सरसों तेल के फायदे और नुकसान – सरसों का तेल मोनोसअअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (MUFA) प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य को अनुकूल रूप से प्रभावित करते हैं। यह न केवल त्वचा और बालों की देखभाल के लिए अनुकूल होता है, बल्कि हृदय रोगों और संक्रमणों के प्रति प्रतिरोध बनाने, खाने के स्वाद को बढ़ाने, और वजन घटाने के लिए भी उपयोगी होता है।

सरसों का तेल और इसके स्वस्थ्य लाभ

1. अस्थमा लक्षणों को कम करने में सहयोगी

सरसों के तेल में मौजूद कॉपर, मैग्नीशियम, आयरन, और सेलेनियम जैसे मूल्यवान मानव स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभदायक होते हैं, विशेष रूप से जब यह अस्थमा लक्षणों को कम करने की बात आती है।

2. मेटाबॉलिज्म स्तर को बढ़ाने और वजन नियंत्रण में सहायता

सरसों का तेल विटामिन B-Complex जैसे महत्वपूर्ण पोषाहार से युक्त होता है, जो मेटाबोलिक तालिका को ऊचा एनर्जी की ओर ले जाते हैं और वजन घटाने में सहायता करते हैं। इसमें मौजूद डायसिलग्लिसरॉल वजन कम करने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

3. बेहतर रक्त संचारण और मांसपेशियों के तनाव को कम करना

आयुर्वेद विज्ञान सरसों के तेल के नियमित उपयोग को प्रोत्साहित करता है, जो मांसपेशियों में तनाव को कम करता है और रक्त प्रवाह को बेहतर बनाता है।

4. अन्त:स्नायुविक सूजन और संक्रमण की रोकथाम

सरसों का तेल, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल, और एंटीवायरल गुणों के कारण, आंतरिक सूजन एवं संक्रमण को कम करने में सक्षम है।

5. उत्कृष्ट त्वचा और बालों की देखभाल

सरसों का तेल त्वचा और बालों के स्वास्थ्य और चमक के लिए प्रख्यात है। सरसों का तेल एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुणों से लैस होता है।  यह त्वचा संक्रमण, जैसे कि एक्ने, को रोकने में मदद करता है। एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों के कारण UVB किरणों से त्वचा की सुरक्षा करती है।

6. कैंसर रोधक गुण

सरसों के तेल में पाए जाने वाले फाइटोन्यूट्रिएंट, लिनोलेनिक एसिड, को कैंसर रोधक क्षमता वाले अंश के रूप में माना जाता है। विभिन्न अध्ययन इनके कोलन के कैंसर और पेट के कैंसर के खतरे को कम करने में उनकी प्रशंसा करते हैं।

सरसों तेल के नुकसान

  • सरसों का तेल फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसमें इरूसिक एसिड होता है जो हमारे श्वसनतंत्र को प्रभावित करता है, जिसके कारण सांस लेने में परेशानी हो सकती है।
  • सरसों का तेल चिपचिपे खाने के बनाने में इस्तेमाल होता है, लेकिन इसमें मिलावट होने की संभावना भी होती है, जिसके कारण ड्रॉप्सी जैसी घातक बीमारी हो सकती है।
  • सरसों के अधिक सेवन से एलर्जी की समस्या हो सकती है। ध्यान देने वाली बात यह है कि सरसों से होने वाली एलर्जी बहुत गंभीर होती है।
  • सरसों का तेल हर दिन खाने में इस्तेमाल करना दिल के लिए हानिकारक हो सकता है। इसमें बहुत अधिक मात्रा में इरूसिक एसिड होता है, जो दिल के लिए खतरनाक हो सकता है।
  • प्रेग्नेंट महिलाओं को सरसों का तेल या बीज के सेवन से बचना चाहिए। सरसों में पाए जाने वाले कुछ रसायन गर्भपात का कारण बन सकते हैं।

Share this Article
Leave a comment

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *