यूरिक एसिड को जड़ से खत्म करने का उपाय

8 Min Read
यूरिक एसिड को जड़ से खत्म करने का उपाय

यूरिक एसिड को जड़ से खत्म करने का उपाय : अनियमित दिन चर्या और अनियमित खान पान की वजह से यूरिक एसिड (Uric Acid) बनने की समस्या कुछ आम सी हो गयी है। अगर यूरिक एसिड शरीर में आवश्यकता से अधिक बनने लगे तो हाई ब्लड प्रेशर, जोड़ों में दर्द, उठने एवं बैठने में परेशानी और सूजन आदि कई समस्या होने लगती हैं।

आज हम आपको यूरिक एसिड क्यों बढ़ता है, यूरिक एसिड क्यों बनता है, यूरिक एसिड क्यों होता है, यूरिक एसिड को कम करने के उपाय, यूरिक एसिड को कैसे कम करें आदि प्रश्नों के उत्तर यहाँ देंगे।

यूरिक एसिड क्या है

यूरिक एसिड क्या है (what is uric acid in hindi ) – यूरिक एसिड एक कार्बनिक पदार्थ है जो शरीर में बहुत कम मात्रा में पाया जाता है। साधारण भाषा में कहें तो यूरिक एसिड ब्लड में पाया जाने वाला एक रसायन है। यूरिक एसिड की कुछ मात्रा शरीर के अंदर कई प्रक्रियाओं के दौरान बनती है जबकि कुछ मात्रा भोजन में पाए जाने वाला प्यूरीन नामक पदार्थ के टूटने से बनता है। प्यूरीन मटर, पालक, मशरूम, सूखे सेम, मीट और बीयर जैसे खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। शरीर में बनने वाले अधिकांश यूरिक एसिड रक्त में घुल जाते हैं और बचे हुये यूरिक एसिड गुर्दे के माध्यम से बाहर निकलते हैं। यूरिक एसिड की जितनी मात्रा शरीर में बनती है उसे किडनी द्वारा फिल्टर करके शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है लेकिन यूरिक एसिड जरूरत से ज्यादा शरीर में बनने लगे तो मानव शरीर में हाई ब्लड प्रेशर, जोड़ों में दर्द, उठने-बैठने मे परेशानी और सूजन जैसी कई बीमारियाँ हो सकती है।

यूरिक एसिड कैसे बनता है

यूरिक एसिड कैसे बनता है – यूरिक एसिड प्यूरिन केमिकल की वजह से बनता है। यह प्यूरिन केमिकल शरीर में भी बनता है और कुछ खाद पदार्थो में भी पाए जाते हैं। मीट, बीन्स, बियर आदि में प्यूरिन की अधिक मात्रा होती है। आमतौर पर आपका शरीर यूरिक एसिड को यूरिन और किडनी के जरिये फिल्टर कर देता है, लेकिन अगर खाने में प्यूरिन केमिकल की अधिक मात्रा हो जाती है तो बॉडी इसे आसानी से फिल्टर नहीं कर पाती। ऐसे में खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है। यूरिक एसिड बढ़ने को “Hyperuricemia” भी कहा जाता है। यूरिक एसिड से “Gout” नाम की बीमारी हो सकती है जिससे जोड़ों में दर्द होता है। यूरिक एसिड खून और यूरिन को काफी एसिडिक भी बना सकता है।

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण

  • गलत डाइट और खान-पान से यूरिक एसिड बढ़ता है।
  • कुछ लोगों में यूरिक एसिड जेनेटिकली होता है।
  • रेड मीट, सी फूड़, दाल, राजमा, पनीर, और चावल खाने से भी बढ़ता है।
  • अधिक समय तक खाली पेट रहने से भी यूरिक एसिड बढ़ता है।
  • डायबिटीज के मरीजों का भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है।
  • मोटापा और स्ट्रेस से भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है।

यूरिक एसिड बढ़ गया है कैसे समझें

  • जोड़ों में दर्द होना।
  • उठने-बैठने में परेशानी होना।
  • उंगलियों में सूजन आ जाना।
  • जोड़ों में गांठ की शिकायत होना।
  • यूरिक एसिड बढ़ने से इंसान जल्दी थक जाता है।
  • शरीर में यूरिक एसिड का पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।
  • पैरों और हाथों की उंगलियों में चुभन वाला दर्द होता है और कई बार यह दर्द असहनीय हो जाता है।

यूरिक एसिड बढ़ने से रोकने के उपाय

  • जिन खाद्य पदार्थों में प्यूरिन की मात्रा अधिक होती है उन्हें कम कर दें जैसे मीट, सी फूड़ आदि। चीनी युक्त फूड और पेय पदार्थ से दूर रहें। रिफाइंड या प्रोसेस्ड फूड में भी चीनी की अधिक मात्रा पाई जाती है। ड्रिंक्स, सोडा और फ्रेश फ्रूट जूस में भी फ्रुक्टोज और ग्लूकोस होता है। फ्रुक्टोज अन्य शुगर के मुकाबले तेजी से एब्सॉर्ब होता है। यह जितनी तेजी से एब्सॉर्ब होता है, उतनी ही तेजी से ब्लड-शुगर लेवल और यूरिक एसिड को भी बढ़ाता है।
  • बेरीज जैसे स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, आदि में एंटी-इनफ्लैमटरी गुण मौजूद होते हैं। यह विशेष गुण यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में फायदेमंद हैं। यह यूरिक एसिड का क्रिस्टलीकरण करने और उसे जोड़ों में जमा होने से रोकता है। इनमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है जो रक्त में यूरिक एसिड को कम करने में मदद करती है।
  • ज्यादा से ज्यादा पानी पीते रहें। अधिक मात्रा में पानी पीने से किडनी से यूरिक एसिड तेजी से निकलता है। अच्छी नींद लेना जरूरी है। सोने से 2 से 3 घंटे पहले से डिजिटल स्क्रीन का इस्तेमाल बंद कर दें।
  • अपनी डाइट में फाइबर की मात्रा को बढ़ाये। डाइट में फाइबर की मात्रा अधिक होने से यूरिक एसिड से छुटकारा मिल सकता है। फाइबर ब्लड-शुगर लेवल को भी कंट्रोल करता है। ड्राई फ्रूट, फ्रोजन सब्जियां, ओट्स, नट्स आदि में 5 से 10 ग्राम सॉल्युबल फाइबर एड कर फाइबर की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा रेशेदार सब्जी में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है।
  • यूरिक एसिड को घटाने के लिए गाजर और खीरा बहुत अच्छा है। गाजर एंटी-ऑक्सिडेंट में बेहद समृद्ध हैं जो एंजाइम के उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करती है। अपने उच्च फाइबर सामग्री के कारण, वे यूरिक एसिड सामग्री को शरीर से बाहर निकालने में भी सहायक होती हैं। ककड़ी उन लोगों के लिए एक बढ़िया विकल्प है जिनके रक्त में उच्च यूरिक एसिड होता है। इसलिये गाजर व ककड़ी का उपयोग खाने में ज्यादा से ज्यादा करें।
  • पानी में आधा चम्मच बेकिंग सोड़ा घोलकर दो हफ्ते पीयें इससे यूरिक एसिड लेवल कम हो जाएगा।
  • पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से भी यूरिक एसिड का लेवल कम होता है। इस पेय का सेवन दो हफ्ते लगातार करना है।
  • अलसी के बीज भोजन के आधे घण्टे बाद चबाकर खाएं।
  • यूरिक एसिड  को कम करने के लिये हरी सब्जियां, फल, अंडा, कॉफी, चाय, ग्रीन टी, साबुत अनाज,ओट्स, ब्राउन राइस जौ, सुखे मेवे खाएं।
  • बथुआ के पत्तों का जूस निकालकर सुबह खाली पेट पीएं। जूस के सेवन के 2 घंटे बाद कुछ ना खाएं। एक हफ्ता करके देखें आपको फर्क दिखने लगेगा।
  • भरपूर पानी पीएं क्योंकि यूरिक एसिड को बाहर निकालने के लिए यह बेहद जरूरी है इसलिए थोड़ी-थोड़ी देर में पानी पीते रहना चाहिए।
  • यूरिक एसिड मरीजों के लिए नारियल पानी काफी फायदेमंद है इसलिये नारियल पानी का सेवन करें।
  • एक कच्चे पपीते  को काट कर 2 लीटर पानी में 5 मिनट के लिए उबाल लें। इस पानी को ठण्डा करके छान लें और फिर दिन में 2 से 3 बार पीएं। यह भी यूरिक एसिड को कम करता है।

Author Profile

Sumit Raghav
Sumit Raghav
I'm, your guide through the fascinating worlds of entertainment and health. With a passion for staying in-the-know about the latest happenings in the entertainment industry and a dedication to promoting well-being, I bring you a unique blend of articles that are both informative and entertaining.

Share this Article